Chanakya Slokas (चाणक्य नीति श्लोक)

कश्चित् कस्यचिन्मित्रं, न कश्चित् कस्यचित् रिपु:। अर्थतस्तु निबध्यन्ते, मित्राणि रिपवस्तथा ॥ भावार्थ : न कोई किसी का मित्र है और …

Read moreChanakya Slokas (चाणक्य नीति श्लोक)