Sanskrit Translation Chapter – 14

1. कर्मणा सफलता मिलती ।

हिन्दी वाक्य

कर्म से सफलता मिलती है ।

2. आलस्यं त्यक्त्वा कार्यं कुरु ।

हिन्दी वाक्य

आलस्य छोड़कर काम करो ।

3. कविषु कालिदासः मुकुटमणिः अस्ति ।

हिन्दी वाक्य

कवियों में कालिदास मुकुट मणि है ।

4. संस्कृत भाषा अति मधुरा एवं प्राचीनं अस्ति ।

हिन्दी वाक्य

संस्कृत भाषा बड़ी मधुर एवं पुरानी है ।

5. नहि संतोषात् समं सुखम् ।

हिन्दी वाक्य

संतोष के समक्ष कोई सुख नहीं है ।

6. यः पठति स एव सफलः भवति ।

हिन्दी वाक्य

जो पढ़ता है वही सफल होता हैं ।

7. परिश्रमेण विना विद्या नायाति ।

हिन्दी वाक्य

परिश्रम के बिना विद्या नहीं आती है ।

8. सर्वेषां मनुष्याणां विद्यैव आभूषणं अस्ति ।

हिन्दी वाक्य

सभी मनुष्यों का आभूषण विद्या ही है ।

9. सदाचारः मनुष्याणां महत्तां बर्धते ।

हिन्दी वाक्य

सदाचार मनुष्यों को महत्ता देता है ।

10. जनकः जनकपुरस्य राजा आसीत् ।

हिन्दी वाक्य

जनक जनकपुर के राजा थे ।

11. सरोवरे मत्स्याः तरन्ति ।

हिन्दी वाक्य

सरोवर में मछलियाँ तैरती हैं ।

12. गोषु कपिला प्रचुरं दुग्धं ददाति ।

हिन्दी वाक्य

गायों में कपिला बहुत दूध देती है ।

13. सीतया सह लक्ष्मणः अपि वनं जगाम ।

हिन्दी वाक्य

सीता के साथ लक्ष्मण भी जंगल गए ।

14. दस्युभ्यः सर्वे जनाः बिभ्यति ।

हिन्दी वाक्य

डाकुओं से सभी लोग डरते हैं ।