Krishna Mantra

Jump to Section

वसुदेवसुतं देवं कंसचाणूरमर्दनम् । देवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दे जगद्गुरुम् ॥ 

भावार्थ :
कंस और चाणूर का वध करनेवाले, देवकी के आनन्दवर्द्धन, वसुदेवनन्दन जगद्गुरु श्रीक़ृष्ण चन्द्र की मैं वन्दना करता हूँ ।

वृन्दावनेश्वरी राधा कृष्णो वृन्दावनेश्वरः। जीवनेन धने नित्यं राधाकृष्णगतिर्मम ॥ 
भावार्थ :
श्रीराधारानी वृन्दावन की स्वामिनी हैं और भगवान श्रीकृष्ण वृन्दावन के स्वामी हैं, इसलिये मेरे जीवन का प्रत्येक-क्षण श्रीराधा-कृष्ण के आश्रय में व्यतीत हो।

Also Read:
Ganesh Mantra
Krishna Mantra
Lakshmi Mantra
Durga Mantra
Durga Saptashloki
Saraswati Mantras
Shiv Mantra

Share this post

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Related Posts

Scroll to Top