Sanskrit Essay On Ganga Nadi(गंगानदी संस्कृत निबंध)

Jump to Section

गंगानदी

अस्माकं देशे सर्वासु नदीषु गंगा अतिश्रेष्ठा प्रधाना पवित्रतमा च वर्तते । इयम् हिमालयात् निःसृत्य बंगोपसागरे पतति । अस्याः पावने तटे विशालाः प्राचीनाः नगर्यः स्थिताः सन्ति, यथा-हरिद्धारः, प्रयागः, वाराणसी, पाटलिपुत्रादि । अस्माकं सभ्यता-संस्कृति एषु नगरेषु उन्नता जाता । गंगा एव भारतवर्षस्य धार्मिक विचारधारायाः पारिचायिका अस्ति । चिरकाल-रक्षितेऽपि गंगाजले कीटाणवः प्रभवन्ति । अतएव गंगानदी नित्या पूजनीय, वन्दनीया, सेवनीया च । भारतीयाः जनाः गंगायाः जलस्य मात्र सेवनं न कुर्वन्ति अपितु देववत् पूजयन्ति च । गंगास्मरणमात्रेण पापः शिरः धुनोति इति कथ्यते ।

पतितोद्धारिणि जाह्नवि गङ्गे खण्डित गिरिवरमण्डित भङ्गे । भीष्म जननि हे मुनिवरकन्ये पतितनिवारिणि त्रिभुवन धन्ये॥

हिन्दी अनुवाद :

हमारे देश के सभी नदियों में गंगा श्रेष्ठ, प्राचीन और पवित्र है । यह हिमालय से निकलकर वंगोपसागर में गिरता है । इसके पावन तट पर अनेक प्राचीन नगर वसे हुए है जैसे हरिद्धार, प्रयाग, वाराणसी, पाटलिपुत्र (पटना) आदि । हमलोग का सभ्यता और संस्कृति इसी नगर से उन्नत हुए है । गंगा भारतवर्ष के धार्मिक विचार का परिचायक है । बहुत दिनों तक रखने पर भी गंगाजल में कीटाणु नहीं होता है । अतः इसलिए गंगानदी प्रतिदिन पूजनीय, वेदनीय और सेवनीय है । भारत के लोग गंगाजल का सिर्फ सेवन ही नहीं करते है वल्कि देवता के समान पूजते भी है । गंगा के स्मरण मात्र से पाप शिर से मिट जाता है ऐसा कहा जाता है ।

हे पतितजनों का उद्धार करनेवाली जह्नुकुमारी गंगे ! तुम्हारी तरंगे गिरिराज हिमालय को खण्डित करके बहती हुई सुशोभित होती हैं, तुम भीष्म की जननी और जह्नुमुनिकी कन्या हो, पतितपावनी होने के कारण तुम त्रिभुवन में धन्य हो । निरोगी होना परम भाग्य है और स्वास्थ्य से अन्य सभी कार्य सिद्ध होते हैं ।

Also Read:
Essay on Pustakalaya
Essay on Maharishi Valmiki
Essay on Vasant Ritu
Essay on Vasant Ritu
Essay on Vedvyas
Essay on Greediness
Essay on Ahimsa

Share this post

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Related Posts

Scroll to Top